08 फ़रवरी 2009

कुछ मेरी कलम से...

मेरी पलकों को भी आराम दे दे।
बहुत धूप है थोडी शाम दे दे।
मै था गुमराह राही तेरी चाह में
ऐसी कश्ती पर था जो थी मजधार में
ना है कश्ती का दोष ना किसी राह की
मेरे कदमो को ही इल्ज़ाम दे दे
बहुत धूप है थोडी शाम दे दे।

सुबह जब साँस लेती है
हवा जब मुस्कुराती है
तो रात के बिस्तर से
सोयी उम्मीद उठती है।
होठ कपकपाती हुई खुलती है
फिर नज़र कुछ तलाशती है
एक अनजानी ख्वाहिश लिये
आशाएं आंख मलती है
धड़कने चलती है फिर
नए जोश और उमंग से
कि शायद आज
वक़्त के किसी मोड़ पर तुम मिलोगे।
हाँ मन यही सपने बुनती है
नज़रे तुम्हारी राह तकती है।

ग़म के आगोश में जब ज़ख्म करवट लेता है।
एक गुज़रा हुआ कल आँखों से टपकता है।
तासीर घाव का कुछ इस क़दर बेचैन किया।
जैसे कल की नहीं आज़ की बात लगता है।
दीवारों को सुनाता हूँ कहानी अपनी।
इस शहर में मेरा कोई नहीं रहता है।
न जुस्तजू किसी की न ख्वाहिशें किसी का।
फ़िर क्यों किसी की बात करता है।
ख़लिश है मुकद्दर फ़िर क्यों कोई बदनाम।
वैसे अपना ही अपनों का दिल तोड़ता है।

ये रिश्ते भी बड़े अजीब होते हैं
जो करीब है वही दूर होते हैं।
लोग मिलते हैं फ़िर बिछड़ते हैं
ज़िन्दगी के बस यही दस्तूर होते हैं।
इस भाग दौड़ की दुनिया में
पैसों का चेहरे पर गुरूर होते हैं।
इश्क की राह चलने वालों को
केवल तन्हाई नसीब होते हैं।
दुश्मनों के भी कुछ उसूल होते हैं
मेरे दोस्त ही मेरे रक़ीब होते हैं।
बंद आँखे, ख़्वाब हर महफूज़ होते हैं
पलक खुलते सारे सपने चूर होते हैं।
तिनका चुन चुन घोंसला बनाती माँ है
पर निकलते ही परिंदे दूर होते हैं।

32 टिप्‍पणियां:

रंजना [रंजू भाटिया] ने कहा…

एक अनजानी ख्वाहिश लिये
आशाएं आंख मलती है
धड़कने चलती है फिर
नए जोश और उमंग से
कि शायद आज
वक़्त के किसी मोड़ पर तुम मिलोगे।
हाँ मन यही सपने बुनती है
नज़रे तुम्हारी राह तकती है।

बहुत बढ़िया लगी यह पंक्तियाँ ..

नीरज गोस्वामी ने कहा…

दुश्मनों के भी कुछ उसूल होते हैं
मेरे दोस्त ही मेरे रक़ीब होते हैं।

Kya baat hai...lajawab.

Neeraj

रंजना ने कहा…

दुश्मनों के भी कुछ उसूल होते हैं
मेरे दोस्त ही मेरे रक़ीब होते हैं।
बंद आँखे, ख़्वाब हर महफूज़ होते हैं
पलक खुलते सारे सपने चूर होते हैं।
तिनका चुन चुन घोंसला बनाती माँ है
पर निकलते ही परिंदे दूर होते हैं।



वाह ! वाह ! वाह !

लाजवाब ! बहुत बहुत सुंदर !

समीर सृज़न ने कहा…

ग़म के आगोश में जब ज़ख्म करवट लेता है।
एक गुज़रा हुआ कल आँखों से टपकता है।
ख़लिश है मुकद्दर फ़िर क्यों कोई बदनाम।
वैसे अपना ही अपनों का दिल तोड़ता है।

बहुत ही सुन्दर भाव हैं. मैं हमेशा आपका ब्लॉग पढता हूँ.. लेकिन इस बार आपने अपनी अभिव्यक्ति को जो शब्द दिए हैं वो वाकई लाजवाब है..

Abhishek ने कहा…

तिनका चुन चुन घोंसला बनाती माँ है
पर निकलते ही परिंदे दूर होते हैं।
भावपूर्ण पंक्तियाँ, स्वागत.

राज भाटिय़ा ने कहा…

क्या बात है , बहुत सुंदर लिखा आप ने .
धन्यवाद

हिमांशु ने कहा…

सुन्दर अभिव्यक्ति. आभार.

संदीप द्विवेदी ने कहा…

ये रिश्ते भी बड़े अजीब होते हैं
जो करीब है वही दूर होते हैं।
लोग मिलते हैं फ़िर बिछड़ते हैं
ज़िन्दगी के बस यही दस्तूर होते हैं।

बहुत अच्छा लगा पढ़ कर

अखिलेश सिंह ने कहा…

दुश्मनों के भी कुछ उसूल होते हैं
मेरे दोस्त ही मेरे रक़ीब होते हैं।
बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति दिल को छु गई....

Atul Sharma ने कहा…

राजीव करुणानिधिजी
तिनका चुन चुन घोंसला बनाती माँ है
पर निकलते ही परिंदे दूर होते हैं।
बहुत सच्‍ची अभिव्‍यक्ति है और लगता है जीवन का सार भी यही है।

Dr.Bhawna ने कहा…

बंद आँखे, ख़्वाब हर महफूज़ होते हैं
पलक खुलते सारे सपने चूर होते हैं।
तिनका चुन चुन घोंसला बनाती माँ है
पर निकलते ही परिंदे दूर होते हैं।
इस सुंदर अभिव्यक्ति के लिए ढेर सारी शुभकामनाएँ ,अम्माजी के ब्लॉग पर आकर रचना पंसद करने के लिए आभार... मेरा ब्लॉग ये है...
http://www.dilkedarmiyan.blogspot.com/

Harkirat Haqeer ने कहा…

ग़म के आगोश में जब ज़ख्म करवट लेता है।
एक गुज़रा हुआ कल आँखों से टपकता है।
ख़लिश है मुकद्दर फ़िर क्यों कोई बदनाम।
वैसे अपना ही अपनों का दिल तोड़ता है।

wah..wah ...!! Rajib ji sabdon pr pakad bhot acchi hai bhav bhi acche hain ....chu gayi...!!

Harsh pandey ने कहा…

bhai ji aapki post bahut achchi lagi
sundar bhaav

आकाश सिंह ने कहा…

सुंदर भाव है. आपकी कविता पढ़के अच्छा लगा. अगले पोस्ट के इंतजार में ..

Raj ने कहा…

bahu achchi kavita aur gazlen hain...aabhar

sandhyagupta ने कहा…

तिनका चुन चुन घोंसला बनाती माँ है
पर निकलते ही परिंदे दूर होते हैं।

Bahut khub.

kundan ने कहा…

वाह क्या खूब लिखा है आपने

kundan ने कहा…

ज़बरदस्त ग़ज़लें है आपकी लिखी हुई. आज आपका एक और चेहरा सामने आया है. आभार.

prabhat ने कहा…

शानदार रचनाएँ..बधाई.

Surendra ने कहा…

दीवारों को सुनाता हूँ कहानी अपनी।
इस शहर में मेरा कोई नहीं रहता है।
सही लिखा है आपने. आभार.

Kumud ने कहा…

बहुत अच्छा...यूँ ही लिखते रहिये.

Dilip ने कहा…

kya khoob likha hai..aapka post dil ko chhu gayi..

dheeraj ने कहा…

वाह राजीव भाई ।क्या लाजबाव कविताई और शायराना कलाम आपने पेश की है । पढ़ा तो लगता है कि किसी शायर की कलम से है । बहुत अच्छा धन्यवाद

BrijmohanShrivastava ने कहा…

अति सुंदर रचना

vimi ने कहा…

Zindagi ke dastur ko bahut accha bayan kiya hai aapne.

hem pandey ने कहा…

सुंदर रचना के लिए साधुवाद.

Dev ने कहा…

बहुत सुंदर रचना .
बधाई
इस ब्लॉग पर एक नजर डालें "दादी माँ की कहानियाँ "
http://dadimaakikahaniya.blogspot.com/

समीर सृज़न ने कहा…

sundar kavita aur gazlon ki barsat karte rahiye.

समीर सृज़न ने कहा…

aur hame yun hi barsat ke pani se sarabor karte rahiye

समीर सृज़न ने कहा…

aapko tahe dil se aabhar

Kumar sambhav ने कहा…

आपने साँसे रोकदी इतना गम........ कलेजा छलनी हो गया. शानदार लेखनी. बधाई

बेनामी ने कहा…

RAJIEEV JI NAMASKAR,

BAHUT ACHHI LAGI AAPKI RACHNAYEN....
AUR SACH MANIYE DIL KO ANDAR TAK CHHU GAI AUR MERI AANKHEN BHAR AAI

RAJIV JI AISA KYUN HOTA HAI KI KOI KISI KI ZINDAGI MEN IS TARAH SE CHALI AATI HAI AUR BAN JATI HAI USKE SHARIR KI LAHU AUR DAUDNE LAGTI HAI LAHU KE SAATH, BAN JATI HAI SINE KI DHADKAN AUR DHADKNE LAGTI HAI SINE KE SAATH...

CHALI AATI HAI JAB BHI PARESHAN HOTI HAI DAUD KAR USKE AAGOS MEN AUR SUKUN KI NIND LETI HAI.... AUR FIR ACHANAK CHALI JATI HAI KISI SINE KO KHALI CHHODKAR AUR KEHTI HAI THIK SE RAHNA JAB KI JANTI HAI WO KI USKE BINE WO YA TO MAR JAYEGA YA PAGAL FIR BHI WO APNE GHAR WALON KI BAAT KEH KAR CHALI JATI HAI SARI ZINDAGI USE TADAPNE KE LIYE AKELA CHHODKAR

KYUN KYUN KYUN

KYA YE GALAT NAHIN HAI ... AGAR GALAT HAI TO ISMEN US LADKE KA KYA DOSH JISNE USKO IS TARAH PYAR KYA KI KHUD KO HI BULA BAITA AUR AAJ WO AADHA PAGAL SA HO GAYA HAI IS INTEZAR ME KI USKI AAWAZ SUN KAR AUR USKO DEKHKAR USKI CHETNA WAPAS AA JAYEGI
PAR

PLEASE REQUEST KIJIYE USSE KI WO EK INSAN KI ZINDAGI BACHA LEN

RAJ