04 नवंबर 2008

व्हाइट हाउस में ब्लैक ओबामा

सुबह से मै टीवी पर टकटकी लगाये बैठा था बीस महीने से चल रहे अमेरिकी चुनावी घमासान का नतीजा देखने के लिए। आज से पहले मै किसी भी दूसरे देशों की राजनीति में ज़्यादा रूचि नही रखता था। २१९ सालो के अमेरिकी लोकतंत्र के इतिहास में ऐसा पहला चुनावी घमासान जो दिल की बेचैनी को बढ़ा दे। एक-एक कर वोटो की गिनती हो रही थी, इधर मेरी धड़कने भी तेज़ होती जा रही थी। आख़िरकार वो लम्हा आ ही गया और ओबामा जीत गया। बराक ओबामा......अश्वेत ओबामा.....डेमोक्रेटिक ओबामा..... सबका ओबामा अमेरिका का ४४वा राष्ट्रपति चुन लिया गया। ऐसा राष्ट्रपति जो काला है। १७८९ में जॉर्ज वाशिंगटन के बाद अमेरिकी इतिहास में पहली बार कोई अश्वेत इस पद पर बैठा है। अफ्रीकी मूल के ओबामा ने रिपब्लिकन उम्मीदवार जॉन मैक्केन को १५५ के मुकाबले ३३८ वोटो से हराया। इसे एकतरफा जीत कहना ग़लत नही होगा क्योंकि बराक को ५०% से भी ज़्यादा मत मिले। वैसे व्हाइट हाउस पर कब्जा करने के लिए बराक को सिर्फ़ २७० मतों की दरकार थी। जहा तक मेरा मानना है, इस चुनाव को दिलचस्प नही कहा जा सकता। २००४ में जो मुकाबला जॉर्ज बुश और जॉन कैरी के बीच हुआ था वो मजा इस बार नही देखा गया। मै बता दू की बिडेन अमेरिका के उपराष्ट्रपति होंगे। ये लोकतंत्र की ही देन है जो एक दबे-कुचले ओबामा को विश्व के सर्वोच्च पद पर आसीन कर दिया। कुछ साल पहले तक लोग ओबामा के साथ खाना भी पसंद नही करते थे। पर आज वो दुनिया के लिए आदर्श है। २० जनवरी २००९ को बराक अपना पहला कदम सफ़ेद घर में रखेंगे। शिकागो के ग्रांट पार्क में अमेरिकी समय के मुताबिक रात के तकरीबन ग्यारह बजे ओबामा ने अपने देश की आवाम जो लगभग १० लाख की संख्या में मौजूद थे को संबोधित किया। उनके साथ स्टेज पर उनकी बीवी और बच्चे मौजूद थे। सबसे पहले जो बराक ने कही वो थी.... ''एस, वी कैन''... हाँ हमने कर दिया। जनता के साथ-साथ बराक ने अपने परिवार और नानी का भी शुक्रिया अदा किया। सबसे बड़ी बात जो ओबामा ने कही '' हम नया अमेरिका बनायेंगे, आम आदमी की सरकार जिसमे डेमोक्रेसी, लिबर्टी और ओपर्चुनिती होगी''। ग्रांट पार्क में मौजूद लाखों लोगों की आँखे नम थी... ऐसा लग रहा था मानो सभा में मौजूद सभी आदमी सबसे ताक़तवर राष्ट्र का राष्ट्रपति बन गया हो।

3 टिप्‍पणियां:

बेनामी ने कहा…

अमेरिका में ओबामा की जीत महज़ किसी डेमोक्रेट की जीत ही नही है, जोर्ज बुश की ग़लत नीतियों के खिलाफ अमेरिकी जनता के दिल की आवाज़ है।

Kumar sambhav ने कहा…

obama ka ana america hi nahi apitu wishw ke liye etihasik ghatana hai... abe dekhana hai ki obama kyea america ko asia ke desho mea aapni khoi pratishtha dila sakte hai.

बेनामी ने कहा…

rajeev ji aap ke headline ko dainik jagran aur Prabhat Khabar ne tep diya......